Editor choice

पहनते हैं Fitness Band, तो कर रहे हैं बेवकूफी ?

पहनते हैं Fitness Band, तो कर रहे हैं बेवकूफी ?
5 (100%) 10 votes

क्या आप फिटनेस ट्रेकर पहनते हैं? क्या आप रोजाना 10 हजार स्टेप्स चलने की सोचते हैं। अगर ऐसा है, तो बेवकूफी कर रहे हैं। एक्सपर्ट के मुताबिक अगर आप हेल्थ एप्स पर भरोसा करते हैं, जो रोजाना 10 हजार स्टेप्स चलने के लिए उकसाती हैं, तो कुछ लोगों के लिए हेल्थ एप्स की यह सलाह नुकसानदायक साबित हो सकती है।

लाखों लोग रोजाना फिटनेस ट्रेकर का इस्तेमाल कर रहे हैं, जो यह वायदा करती हैं कि इससे आप स्वस्थ रहेंगे और आपकी लाइफस्टाइल अच्छी रहेगी। लेकिन जॉन्स होपकिंस यूनिवसिर्टी के कंप्यूटर साइंस के प्रोफेसर डॉ. ग्रेग हैगर का कहना है कि कई हेल्थ एप्स के पास इस बात का कोई पुख्ता प्रमाण नहीं है।

हैगर यह भी चेतावनी देते हैं कि ये हेल्थ एप्स कुछ लोगों के लिए नुकसान दायक भी हो सकती हैं।

पिछले दिनों बोस्टन में हुई अमेरिकन एसोसिएशन फॉर द एडवांसमेंट ऑफ सांइस की सालाना मीटिंग में डॉ. हैगर का कहना था कि 10 हजार स्टेप्स थ्यौरी के पीछे 1960 में जापानी पुरुषों पर की गई स्टडी है।

fitness band

हैगर एक सवाल पूछते हैं कि क्यों 10 हजार स्टेप्स महत्वपूर्ण हैं? 1960 में जापानी पुरुषों पर हुई स्टडी के बारे में वे बताते हैं कि जापानी 3 हजार कैलोरी बर्न करने के लिए 10 हजार स्टेप्स चलते थे। और इसी वजह से हेल्थ एप्स कंपनियां सोचती हैं कि एक एवरेज पर्सन के लिए 10 हजार स्टेप्स चलना जरूरी है।

डॉ. हैगर के मुताबिक इन दिनों दुनियाभर में 1 लाख 65 हजार से ज्यादा हैल्थ एप्स एक्टिव हैं, और सभी ये वायदा करती हैं कि इससे मेंटल हेल्थ, फिटनेस और गंभीर बिमारियां दूर रहेंगी।

ALSO READ  Intex FitRist Cardio Unveiled at ₹ 1,499, with Step Counter, Heart Rate & Sleep Monitor

डॉ. हैगर के मुताबिक इनमें से कुछ सांयटिफिक रिसर्च बेस्ड हैं, लेकिन अधिकांस बिना ट्रायल वाली हैं, सच्चाई से कोसों दूर हैं।

डॉ. हैगर के मुताबिक ऐसी अनगिनत एप्स हैं, जो लोगों ने डाउनलोड की हैं, लेकिन लोग यह नहीं जानते कि उनका इस्तेमाल कैसे किया जाए। वह कहते हैं, अगर कोई यह इमेजिन करने लगे कि वह 10 हजार स्टेप्स चल सकता है, तो उसे पहले अपनी फिजिकल कैपेबिलिटी भी देखनी चाहिए। नहीं तो आप अपना नुकसान कर बैठेंगे। अगर आप बुजुर्ग हैं, तो आपके लिए ऐसा सोचना भी गुनाह है।

उनका मानना है कि ऐसी एप्स लोगों को फायदा पहुंचाने की बजाय नुकसान पहुंचा रही हैं। वह कहते हैं, आप इमेजिन कर सकते हैं कि पहली बार बेबी फूड फॉर्मूला की मार्केटिंग हुई तो माओं ने ब्रेस्टफीडिंग बंद कर दी, क्योंकि उनका मानना था कि यह बिल्कुल सही है।

डॉ. हैगर के मुताबिक बिना किसी सांयटिफिक बेस के आप यह कैसे कह सकते हैं कि यह एप आपके लिए अच्छी है। आमतौर पर हम लोग यही सोचते हैं कि ज्यादा एक्सरसाइज करना हमारे लिए अच्छा है। लेकिन अगर हम उम्रदराज या फिजिकली फिट नहीं हैं, तो यह आपके लिए नुकसानदायक साबित हो सकती हैं।

Author is Famous Technology and Automobile Journalist worked with esteemed Daily News Papers.

Subscribe For Latest Updates

Signup for our newsletter and get notified when we publish new articles for free!




Digital Talk
Register New Account
Become a Member
Reset Password
Compare items
  • Total (0)
Compare
0