खतरा ! Smartphones पर मिले 3 नए बैक्टीरिया, पुणे के वैज्ञानिकों ने की खोज

खतरा ! Smartphones पर मिले 3 नए बैक्टीरिया, पुणे के वैज्ञानिकों ने की खोज
Rate this post

पुणे के वैज्ञानिकों ने मोबाइल हैंडसेट्स पर उगने वाले 3 नए माइक्रोब्स का पता लगाया है। पश्चिमी देशों की रिपोर्ट के मुताबिक मोबाइल फोन टॉयलेट सीट्स से भी ज्यादा गंदे हो गए हैं। वहीं कुछ स्मार्टफोंस पर खतरनाक बैक्टीरिया भी मिले हैं, जिन पर दवाओं का कोई असर नहीं होता।

पुणे के सरकारी नेशनल सेंटर फॉर सेल साइंस (NCCS) के मुताबिक वैज्ञानिकों ने मोबाइल फोंस की स्क्रीन पर 3 नए माइक्रोब्स की प्रजातियों की खोज की है। दो बैक्टीरिया और फंगस को वैज्ञानिक साहित्य में पहले कभी नहीं देखा गया है।

इससे पहले 2015 में यूनिवसिर्टी ऑफ सर्दन कैलीफोर्निया में मॉल्क्यूलर माइक्रोबॉयोलॉजी एंड इम्यूनोलॉजी डिपार्टमेंट में असिस्टेंट प्रोफेसर William DePaolo ने पाया था कि टॉयलेट सीटों पर आमतौर पर 3 प्रकार के बैक्टीरिया मिलते हैं, लेकिन मोबाइल फोंस पर 10 से 12 प्रकार के फंगस और बैक्टीरिया मिलते हैं।

Yogesh S Shouche

Dr. Yogesh S Shouche

पुणे में Dr. Yogesh S Shouche की टीम ने 27 मोबाइल फोंस की स्क्रींस से लिए गए माइक्रोब्यल कल्चर कलेक्शन में 515 अलग तरह के बैक्टीरिया और 28 प्रकार की फंगस को अलग किया।

इस रिसर्च के को-इनवेस्टीगेटर Praveen Rahi के मुताबिक ये माइक्रोब्स ह्यूमन फ्रैंडली होते हैं और हमारे शरीर पर पाए जाते हैं।

लेकिन इस टीम के 6 सदस्यों वाली टीम को तब हैरानी हुई जब उन्हें माइक्रोब्स की नई प्रजाति देखने को मिली। दो बैक्टीरिया का नाम Lysinbacillus telephonicus और Microbacterium telephonicum रखा गया है जबकि फंगस की नई प्रजाति का नाम Pyrenochaeta telephoni रखा गया है।

ALSO READ  LG V20 Available on Big Discount, Amazon Selling at ₹ 34,999

Praveen Rahi के मुताबिक सैंपल्स में मिले माइक्रोब्स में से कोई भी Staphylococcus aureus जैसा खतरनाक सुबपरबग नहीं है। हालांकि उन्होंने जोर देकर कहा कि इस रिसर्च में उन्होंने किसी हेल्थकैयर वर्कर्स के मोबाइल फोंस का सैंपल नहीं लिया है, जहां ये सुपरबग आमतौर पर मिलता है।

World Health Organisation ने भी इस मामले में अपनी चिंता जाहिर की है। इसका कहना है कि रोगप्रतिरोधक दवाओं के प्रति हमारी प्रतिरोधक क्षमता लगातार बढ़ रही है और हमारे ईलाज के उपाय लगातार कम होते जा रहे हैं।

मोबाइल फोंस को बैक्टीरिया से बचाने का एक मात्र उपाय है कि उन्हें टॉयलेट में लेकर न जाएं, साथ ही फोन स्विच ऑफ करके उसे साबुन वाले पानी में कपड़े को अच्छे से निचोड़ कर समय-समय पर साफ करते रहें, और तब तक हाथ न लगाएं जब तक फोन पूरी तरह से सूख न जाए।

इसके अलावा फोन को साफ करने के लिए कमर्शियल क्लीनिंग फ्लूइड और सैनीटाइजर का इस्तेमाल भी कर सकते हैं। ध्यान रखें कि फोन को साफ करने से पहले उसे स्विच ऑफ कर दें।

Author is Famous Technology and Automobile Journalist worked with esteemed Daily News Papers.

Subscribe For Latest Updates

Signup for our newsletter and get notified when we publish new articles for free!




Digital Talk
Register New Account
Become a Member
Reset Password
Compare items
  • Total (0)
Compare
0